टोकन व्यवस्था से आसान होगी चार धाम यात्रा

टोकन व्यवस्था से आसान होगी चार धाम यात्रा

Chardham Yatra Tocken System

टोकन व्यवस्था से आसान होगी चार धाम यात्रा

Spread this blog

इस बार की चार धाम यात्रा में कुछ अलग और नया होगा जो यात्रियों के पिछले अनुभवों से जुदा है। दरअसल, इस बार चार धाम यात्रा के दौरान केदारनाथ धाम में टोकन सिस्टम लागू किया गया है। उत्तराखंड में तीर्थयात्रा क्रमशः 7 मई को गंगोत्री और यमुनोत्री तथा 9 मई को केदारनाथ और 10 मई को बद्रीनाथ में शुरू होगी। यात्रा की अंतिम तिथि 29 अक्टूबर निर्धारित की गई है।

केदारनाथ धाम की यात्रा में श्रद्धालु टोकन सिस्टम से बाबा केदार के दर्शन करेंगे। इस बार 9 मई को धाम के कपाट खुलने के साथ ही यह व्यवस्था लागू कर दी जाएगी। नई व्यवस्था के तहत मंदिर परिसर में एक समय में अधिकतम 200 श्रद्धालु ही खड़े हो सकेंगे। टोकन का नंबर वहां लगी स्क्रीन पर प्रदर्शित होता रहेगा। साथ ही लाउडस्पीकर से भी टोकन नंबर के बारे में जानकारी दी जाएगी, जिसके आधार पर भक्तजन अपना नंबर आने पर बाबा के दर्शन कर सकेंगे।

केदारनाथ धाम में पिछले वर्षों में उमड़ी श्रद्धालुओं की भारी संख्या को ध्यान में रखते हुए इस यात्रा को सुलभ और सुरक्षित बनाने के लिए यह व्यवस्था लागू की जा रही है। स्थानीय जिला प्रशासन ने बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के साथ मिलकर यह व्यवस्था की है। जानकारी के अनुसार, इस साल प्रशासन ने 20 हजार टोकन तैयार कराए हैं।

मंदिर परिसर पर भीड़ का दबाव न बढ़े, इस बात को ध्यान में रखते हुए यह व्यवस्था की गई है कि जब 200 श्रद्धालू मंदिर परिसर में होंगे, उसके बाद किसी को अंदर नहीं आने दिया जाएगा। ताकि मंदिर परिसर पर भीड़ का दबाव न बढ़े। साथ ही तीर्थ यात्रियों को भी कई-कई घंटों तक लंबी लाइन में लगे रहने से निजात मिलेगी। उम्मीद की जा रही है कि इस सुविधा के बाद प्रशासन का काम भी आसान हो जाएगा और भक्त भी आराम से बाबा के दर्शन कर सकेंगे।

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
2 Comments
oldest
newest most voted
Inline Feedbacks
View all comments
Haresh buhecha
Haresh buhecha
3 years ago

Good

Prakash p Jarande
Prakash p Jarande
2 years ago

Hi🙏
We are 9 person’s whant to book Hylicoter Tickets from “Guptkashi to kedarnath ” . Please guide us, how can i book the Tickets.

2
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x